कुंभ प्रयागराज 2019 भारत | Kumbh Prayagraj 2019 India | दिव्य कुंभ भव्य कुंभ

yojanainfo
5 Min Read
कुंभ प्रयागराज 2019

कुंभ प्रयागराज का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है| परंतु 800 वर्ष पूर्व शंकराचार्य जी ने इसको नया स्वरूप दिया| आजाद भारत का पहला कुंभ 1954 मैं बड़ी धूमधाम से मनाया गया| जिसमें पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने भी भाग लिया| इस बार कुंभ 15 जनवरी 2019 से 4 मार्च 2019 तक मनाया जाएगा|

Google News
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Subscribe

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार ने इस बार कुंभ को भव्य बनाने के लिए विशेष प्रबंध किए हैं| प्रयागराज भारत के प्रमुख नगरों से सड़क, रेल, वायु मार्ग से जुड़ा है| इस बार कुंभ में देश-विदेश से लगभग 12 करोड़ लोग पवित्र संगम में स्नान करेंगे| भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मॉरीशस के प्रधानमंत्री भी इसमें भाग लेंगे|

कुंभ प्रयागराज 2019 अखाड़ों की पेशवाई

  • साधु संत जुलूस की शक्ल में जब नगर के प्रवेश द्वार पर पहुंचते हैं तो नगर अधिकारी उनका भव्य स्वागत करते हैं|
  • हाथी घोड़ों पर सवार बैंड बाजे के साथ साधु संतों की इस धार्मिक यात्रा को पेशवाई कहते हैं|
  • इस बार कुंभ महापर्व में किन्नर अखाड़ा भी शामिल हुआ है जो कि आकर्षण का मुख्य केंद्र है|
  • यूनेस्को ने कुंभ को मानवता की अमूर्त संस्कृति धरोहर के रूप में मान्यता दी है|
कुंभ प्रयागराज 2019
कुंभ प्रयागराज 2019
  • इस बार कुंभ पूजन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया| जिसमें 72 देशों के राजनायको ने अपने देश के झंडे लहराए|
  • स्वामी विवेकानंद के शब्दों में प्रत्येक हिंदू को जीवन में एक बार कुंभ स्नान अवश्य करना चाहिए|
  • सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने कुंभ को आस्था और विज्ञान का संगम कहा है|

कुंभ प्रयागराज 2019 मुख्य स्नान

  • 14 जनवरी – मकर सक्रांति
  • 15 जनवरी – शाही स्नान
  • 17 जनवरी – पुत्रदा एकादशी
  • 21 जनवरी –  पोर्ष पूर्णिमा
  • 24 जनवरी – माघ कृष्ण चतुर्थी
  • 31 जनवरी – माघ कृष्ण एकादशी
  • 4 फरवरी – शाही स्नान
  • 10 फरवरी –  अंतिम शाही स्नान
  • 12 फरवरी – रथ सप्तमी
  • 13 फरवरी – कुंभ सक्रांति
  • 19 फरवरी –  माघी पूर्णिमा
  • 4 मार्च – महाशिवरात्रि

कुंभ प्रयागराज 2019 मुख्य आकर्षण

टेंट सिटी :- पर्यटकों के लिए 60 एकड़ भूमि में सभी सुविधाओं से युक्त 1200 हाईटेक टेंट लगाए गए हैं| जिनका प्रतिदिन का किराया 1000 रुपए से 32000 रुपए तक है|

पेंटिंग :-  कुंभ प्रयागराज में 15 लाख वर्ग फीट एरिया में कुंभ धर्म और संस्कृति से जुड़ी पेंटिंग बनाई गई है|

सजावट :- त्रिवेणी संगम में 40 हजार LED लाइटों से भव्य सजावट की गई है|

पार्किंग :- कुंभ में आने वाले 6 लाख वाहनों के लिए पार्किंग बनाई गई है|

स्पेशल ट्रेन :- कुंभ के लिए देश के कोने-कोने से श्रद्धालुओं के लिए 800 स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही हैं|

घाट :- संगम में 10 किलोमीटर लंबे घाट बनाए गए हैं|

एयर बोट :- वाराणसी से प्रयागराज के लिए एयरबोट की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है|

लेजर शो :- संगम पर किले की दीवार पर लेजर शो का आयोजन किया गया है| स्क्रीन इतनी बड़ी है कि 1 किलोमीटर दूर से भी देखा जा सकता है|

साइबेरियन पक्षी :- कुंभ में इस बार साइबेरियन पक्षी भी आकर्षण का केंद्र रहेंगे|

कुंभ प्रयागराज 2019
कुंभ प्रयागराज 2019 साइबेरियन पक्षी

कुंभ प्रयाग राज 2019 सुरक्षा व्यवस्था

दिव्य कुंभ सुरक्षित कुंभ :- कुंभ में सुरक्षा के लिए 20,000 पुलिस जवानों को तैनात किया गया है| कुंभ स्थल में 1000 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं| सादे कपड़ों में भी पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं| सुरक्षा के लिए कमांड एंड कंट्रोल केंद्र की स्थापना की गई है| जहां से CCTV कैमरों की निगरानी की जाएगी|

कुंभ प्रयागराज 2019 चिकित्सा

  • कुंभ में चिकित्सा संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए 100 बेड का अस्पताल बनाया गया है| जिसमें इमरजेंसी सहित ऑपरेशन थिएटर की सुविधा भी उपलब्ध है|
  • हर सेक्टर में एंबुलेंस की व्यवस्था की गई है|
  • इमरजेंसी के लिए एयर एंबुलेंस की व्यवस्था भी करवाई गई है|

कुंभ प्रयागराज 2019 स्वच्छता

  • कुंभ पर्व में स्वच्छता बनाए रखने के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं|
  • 1,22500 टॉयलेट बताए गए हैं|
  • 20,000 सफाई कर्मी तैनात किए गए हैं|

कुंभ विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक मेला है| स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कुंभ में लघु भारत के दर्शन होते हैं| जिसने भारत में कुंभ नहीं देखा उसने कुछ नहीं देखा| कुंभ हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग है|

Google News
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Subscribe
Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *